simple web creator

dgkuhdkj larks’k xkks;y

संतोष गोयल की कहानियाँ वर्तमान समय की नारी की विविध समस्याओ से जूझती है।

larks’k xkks;y viuh dgkfu;ksa esa ewyr% vfLrRo dh igpku rFkk laca/kksa esa vkrs cnyko dks js[kkafdr djrh gSaA ikfjokfjd laca/kksa dh fo?kVu vkSj fo’kerkvksa dks mtkxj djrh ;s dgkfu;ka ifr&iRuh laca/kksa “kkjhfjd o ekufld ruko] vfLrRo ds fy, fd;k tkrk la?k’kZ] nfyrkssa ds la?k’kZ o nq%[k vFkkZr vusd lanHkZ] vusd leL;k,a lHkh vksj larks’k xks;y dk /;ku tkrk gS vkSj dqN Hkh mudh dgkfu;ksa esa O;Dr gksdj dFkkRed vfHkO;fDr cu tkrh gSA os ftruk ltx Hkko ls cfgtZxr dks ns[krh gSa] mruh gh ltxrk ls os vartZxr esa Hkh izos”k ikrh gSaA var% psruk dh fofHkUUk ijrksa dks le>uk vkSj muds Hkhrj >kaduk mUgsa [kwc vkrk gSA bu dgkfu;ksa esa ekuo euksfoKku xgu :i ls jgrk gS] “kk;n blfy, fd os euksfoKku dh v/;srk jgh gSa] frl ij thou&;k=k esa vkrh my>usa] leL;k,a] okafNr&vokafNr ?kfVr ?kVukvksa rFkk fHkUu&fHkUu izdkj dh ekufldrk okys jkgxhjksa o laca/kksa ls chckLrk gksrh jgrh gSaA ofj’B dFkkdkj] i=dkj] fQYedkj deys”oj th us mudh dgkfu;ksa ds laca/k esa dgk Fkk&
larks’k th dh dgkfu;ka vius le; ds lR; dks lkeus j[krh gSaA buesa ukjh foe”kZ ds lkFk&lkFk lkfgR; foe”kZ Hkh gSA bu dgkfu;ksa es vtc fdLe dk laf”y’V f”kYi gS&laosnuk dk f”kYi tks vHkh rd dh dgkuh essa fodflr ugha gqvk FkkA eSa le>rk gwa vkSj dg ldrk gwa fd vU; fdlh esa Hkh vPNh cqukoV dh bruh vPNh Hkk’kk dh dgkfu;ka vkSj brus cM+s lR;ksa dks vudgs rjhds ls dg ldus dh lkeF;Z dh dgkfu;ka nh gSaA*
Larks’k th ds fy, dgkuh dk var csgn egRoiw.kZ gksrk gSA lkekU; var mUgsa ugha #prkA var vusd iz”u&fpUgksa ds chp ls xaqtyd ekjdj cSBk viuk Qu fudky dj [kM+k gksuk pkfg,] ftls nss[kdj ikBd viuk fu’d’kZ Lo;a [kkst ysaA mUgsa varghu var cdkSy deys”oj ;k vksisu ,aMsM cdkSy iou ekFkqj dgkfu;ka vf/kd l”kDr o lkFkZd yxrh gSaA Hkk’kk Hkh os dF; o ik= ds vuqdwwy gh iz;ksx esa ykrh gSaA mudh Hkk’kk vR;ar l”kDr o dlkoV Hkjh gS RkFkk mlesa fofo/krk Hkh gSA vuqdwy “kCn jpuk] larqfyr okD;&foU;kl dgkuh dks xfr iznku djrs gSa] ifj.kker% ikBd dgkuh dks izkjaHk dj NksM+uk gh ugha pkgrkA
Larks’k xks;y ds vuqlkj ckgjh nh[krs vFkZ ds ihNs fNik vFkZ ;fn dgkuh esa vk;s vkSj ikBd mls ladsfrd dj ik;s] rks os mls viuh lQy dgkuh ekurh gSaA muds }kjk jfpr ^>wyk* ;wa lkekU; izse dgkuh dh dksfV esa j[kh tk ldrh gS fdarq okLrfodrk ;s gS fd ;g dgkuh lkekU; thou;kiu djrh ml efgyk ds vfLrRo dh gS tks ,d lQy iRuh] ds dRRkZO; fuHkkrh eka rFkk ?kj dh lkt&lTtk esa tqVh x`fg.kh gS] rHkh rks dgkuh var esa bl iz”u ds lkFk lekIr gksrh gS fd vkf[kj lkekU; thou fcrkrh duq larq’V Fkh ;k vc viuh igpku dk Kku gks tkus ds ckn&mlds lkeus gS ,d cM+k&lk iz”u fpUgA mRrj ikBd viuh&viuh ekufldrk ds vuqlkj [kkstysaA

Story

अंगार तथा अन्य कहानियाँ 

संतोष गोयल की कहानियाँ परंपरागत सांचे की चिंता नहीं करती.उनमे न आदी है न अंत ,बस एक स्थिति है, एक जीवंत चित्र है जो पाठक के अंतर को उद्वेलित करता है ,उसे सोचने तथा समझाने को विवश करता है। 

कोनाझरी केतली

कोनाझरी केतली

कोनाझरी केतली में स्री की बेबसी, असहायता उभरती है। परिवार में स्त्री की िस्थति क्या है ? मानव मन के भीतर गहरे झांकती ये कहानिया जीवन के यथार्थ को पकड़ने में समर्थ हैं. यही वे सच है जो इन्सान खुद नहीं जान पाता।

Story

चर्चित कहानियाँ

'संतोष गोयल की कहानियां परम्परागत कथानक की अवधारणा को तोड़कर निकली हैं अत: बनावटीपन से मुक्त है .इन कहानियों में वातावरण ही कहानी बन जाता है और पाठक को पता भी नहीं चलता तथा कहानी ख़त्म हो जाति है।

जड़े कहानी

जड़ें  तथा अन्य कहानियाँ 

जड़ें कहानी जिसका फिम्लिकरण किया जा रहा है वह कहानी भारतिय संस्कृति की संकरी होती गलियों के सच की कहानी है। 


story

बुक नेस्ट

संतोष गोयल की कहानियां परम्परागत कथानक की अवधारणा को तोड़कर निकली हैं अत: बनावटीपन से मुक्त है .इन कहानियों में वातावरण ही कहानी बन जाता है।

© Copyright 2019 SantoshGoyal.in - All Rights Reserved