Mobirise

लेखिका परिचय


आइए मिलते हैं वरिष्ठ कथाकार डा. संतोष गोयल जी से इनके सरल ,सहज व निश्च्छल व्यवहार में चुम्बकीय शक्ति है जो छोटे- बड़े सभी को समान रूप से आकर्षित करती है | ‘हमकलम’ साहित्यिक संस्था की संस्थापिका सदस्या हैं | संतोष जी ‘हमकलम’ साहित्यिक संस्था की मासिक गोष्ठियों में इनका रचनात्मक संयोजन गोष्ठी में समां बाँध देता है |
कहानी व कविता लेखन में समान रूप से सिद्धहस्त हैं | संतोष जी इनकी कहानियों में मानव मन में छुपी संवेदनाओं की मार्मिक अभिव्यक्ति होती है | इनमें जीवन के विविध पक्षों की व्याख्या यथार्थ और कल्पना के सुन्दर संयोजन व समन्वय द्वारा मिलती है | लेखिका ने आधी आबादी विशेष रूप से अवर्ण महिलाओं के साथ हो रहे भेद-भाव, शोषण, अत्याचार व उसके प्रतिकार को अपनी कहानियों में अभिव्यक्ति दी हैं | ‘खिड़की से’ कहानी में एक ऐसी स्त्री के जीवन को लेखिका ने अपनी लेखनी की धार दी है जो अपने परिवार, अपने बच्चों व पति के लिए अपने सपने, अपना कैरियर सबकुछ छोड़ देती है परंतु वही एक दिन एकाकी व एकरसता भरा जीवन जीने के लिए अभिशप्त हो जाती है | यह कहानी स्त्री की जिंदगी में रोज-रोज घटने वाली नीरस और अनुत्पादक घटनाओं को बयां करती है | ‘बेतरतीब असल ज़िंदगी’ कहानी में एक पढ़ी-लिखी और आत्मनिर्भर स्त्री को धीरे-धीरे परतंत्र बना देने की कहानी बयां की गई है | कथावाचिका कालेज में अध्यापिका है | ऊर्जावान लेखिका है लेकिन पति द्वारा पहले उसे आर्थिक रूप से पंगु बना दिया जाता है | फिर उसकी सामाजिक, सांस्कृतिक व वैचारिक गतिविधियों पर अंकुश लगाया जाने लगता है | आजकल तथाकथित सभ्य समाज के कुछ परिवारों में महिलाओं का शोषण केवल शारीरिक व मानसिक ही नहीं बल्कि आर्थिक भी किया जाने लगा है, उसे पैसे कमाने की मशीन समझा जाता है जिसकी बानगी ‘बेतरतीब असल जिंदगी’ है | ऐसी अनेक कहानियां हैं संतोष जी की जो स्त्री-मन की बारीकी से पड़ताल करती हुई-सी प्रतीत होती हैं |
‘सामने वाला आअदमी’, ‘सुलगती नदी’, ‘सीढियां तथा अन्य कहानियां’, ‘कोनाझरी केटली’, ‘एक नई सिंड्रेला’ आदि कहानी संग्रह एवं ‘ अभी कुछ नहीं बीता’, ‘निषेध कहीं नहीं’ , ‘चक्षु पथ’ , सफर : एक सड़क’ आदि उल्लेखनीय काव्य संग्रह हैं . डा. संतोष गोयल को बहुत बहुत शुभकामनाएँ इसी तरह साहित्यिक यात्रा चलती रहे और साहित्य की श्रीवृधि होती रहे यही दिली तमन्ना है हमारी |

नाम: संन्तोष गोयल
• शिक्षा: एम. ए., पीएच.डी , डिप्लोमा इन लिंग्विस्टिकस
             o पीएच.डी की उपाधि के लिए किए जाने वाले शोध ग्रन्थों का निर्देशन
             o पुरस्कार तथा सम्मान
             o -‘झूला’ कहानी संग्रह पर राष्ट्रीय पुरस्कार, केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा।
             o -भारतवर्षीय जैन संस्था द्वारा ‘जैन लेखिका रत्न सम्मान’
             o -लोक संस्कृति संस्थान द्वारा ‘अभी कुछ नहीं बीता’ कविता संग्रह पुरस्कृत
             o -‘कल्पतरू’ साहित्यिक संस्था दिल्ली द्वारा ‘कथा विदुषी सम्मान’
             o -‘अवन्तिका’ द्वारा शिक्षक तथा लेखिका सम्मान
             o -भारतीय भाषा सम्मेलन दिल्ली द्वारा लेखिका सम्मान
             o -‘एशियाटिक आथर्स एसोसिएशन ‘केनेडा’ द्वारा साहित्यकार सम्मान’
             o -हिन्दी साहित्य अकादमी दिल्ली द्वारा साहित्यकार सम्मान
             o -प्रज्ञा साहित्यिक संस्था द्वारा साहित्यकार पुरस्कार
• साहित्यिक लेखन
• कहानी संग्रह:
               o -सामने वाला आदमी
               o -सुलगती नदी
               o -सीढ़ियां तथा अन्य कहानियां
               o -झूला
               o -जड़ें तथा अन्य कहानियां
               o -चर्चित कहानियां
               o -कोनाझरी केतली
              o -बुक नेस्ट तथा अन्य कहानियां
              o -अंगार तथा अन्य कहानियां
              o -प्रेम संबधों की कहानियां
              o एक नयी सिन्डरेला
• संपादित कहानी संग्रह
              o -अपना-अपना विश्वास
              o -मेरी-तेरी जमीन
• संपादित निबन्ध संग्रह
              o -नारी: एक सफर
              o -दिनेश नन्दिनी डालमिया: एक परम्परा
• कविता संग्रह
              o -अभी कुछ नहीं बीता
              o -निषेध कहीं नहीं
              o -चक्षुपथ
              o -सफर: एक सड़क
• उपन्यास
              o -धराशायी
              o -रेतगार
              o -सूर्य रागिनी-दास्ताने मौसम
              o -‘अ इतिहास’ असमिया की प्रसिद्ध लेखिका ‘मामोनी रोसम इन्दिरा गोस्वामी’ रचित उपन्यास का हिन्दी में अनुवाद
              o -खून रंगे पन्ने ‘मामोनी रोसम इन्दिरा गोस्वामी’ रचित उपन्यास का हिन्दी में अनुवाद
              o स्न 2000 का जून
• आलोचना
              o -युग निर्माता कवि: निराला
              o -रामकथा: एक मनोचिकित्साप्रणाली
              o -बीसवीं सदी: कुछ प्रश्न
              o -कम्प्यूटर: एक परिचय
              o -जनसंपर्क तथा विज्ञापन
              o -कम्प्यूटर का परिचय हिन्दी में
              o -जनसंचार: लेखन कला
              o प्रकाशन से प्रसारण तक
• विशेष अनुसंधान
• -हिन्दी उपन्यास कोश 1870-1980 तीन खंड-
• 100 वर्ष के हिन्दी उपन्यास लेखन की सम्पूर्ण परिचयात्मक यात्रा
• हिन्दी के मौलिक व साहित्यिक स्तर के उपन्यासों की वैज्ञानिक एवं वर्गीकृत सूची, परिचय तथा आवश्यक विवरण सहित प्रस्तुत करनेवाला यह एकमात्र ग्रन्थ है जो हिन्दी के शोधार्थियों के लिए उपयोगी होने के साथ-साथ अन्य भाषा-भाषियों के लिए तुलनात्मक शोधकार्य के लिए भी अनिवार्य है।
• निरन्तर लेखन
• -हंस साप्ताहिक हिन्दुस्तान नव-भारत टाईम्स सारिका, वामा, सन्डे आबज़वर आदि पत्र-पत्रिकाओं में निरन्तर प्रकाशन
o -दूरदर्शन तथा आकाशवाणी में कार्यक्रम
o -माॅरिशस तथा बीबीसी लंदन तथा एशियन टेलिविजन नेटवर्क कनाडा तथा चिन रेडियो ओटवा कैनेडा में ‘अतिथि रचनाकार कार्यक्रम’ के अन्तर्गत साक्षात्कार
• साहित्य संस्थाओं से सम्बन्ध
            o महामंत्री ‘ऋचा’ साहित्यिक मंच
            o सदस्य विमेन कान्फ्रेन्स दिल्ली
- Indian Society of Authors (INSA)
o • sadsya Respect Age (International Society of Old people)
o • sadsya – Dialogue – a Literary society
o • sadsaya – samvaad – Literary society&ublishers
• अनुवाद
             o ‘झूला’ कहानी का पंजाबी, उर्दू, मलयालम, अंग्र्रेजी तथा असमिया में अनुवाद हुआ।
             o ‘सामने वाला आदमी’ प्रथम कहानी जो ‘साप्ताहिक हिन्दुस्तान’ में प्रकाशित हुई थी का, अंगे्रजी, मराठी, पंजाबी तथा उर्दू में अनूदित हुई।
             o ‘झरते पत्ते के बदलते रंग’ कहानी कन्नड़ में अनूदित
             o जड़ें कहानी पर रेडियो नाटक प्रसारित
             o सन 1996 तथा 1998 में क्रमशः ‘रस्सी’ तथा ‘सजा’ सर्वश्रेष्ठ कहानियां चुनी गईं।
• प्रकाश्य
• कविता संग्रह
• -कहानी संग्रह
In English
            • • The Swing and other stories
            • • She: in search of light(Novel)
            • • International Seminar on Folklore , Delhi University Delhi --- published
            • • Chessman and other stories---publisher Manjuli prakashan
            • • The slope and other stories----- publisher Manjuli prakashan
           • • Roots- translated by Ramma Kamra a well known Canadian writer---Published by National P;
TEACHING EXPERIENCE:
             • • Worked as Asst. Director in the School of Correspondence Courses, Delhi University, and Delhi.
             • • Since 1966 teaching the graduate and post-graduate classes in Miranda House, Delhi University, Delhi.
             • • Supervisor of Ph.D. students
             • • Examiner of Ph.D. students

• स्ंापादन
             • काॅलिज की पत्रिका ‘मिरांडा’
             • -ऋचा पत्रिका का संपादन
             • -हमकलम पत्रिका का संपादन
• संतोष गोयल की रचनाओं पर शोध कार्य
              o -‘जड़ें’ कहानी संग्रह पर कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय से एम फिल की उपाधि के लिए शोध कार्य हुआ।
              o -‘रेतगार’ उपन्यास में नारी संचेतना-शोध कार्य
              o -कोनाझरी केतली में वर्तमान संदर्भ-शोध कार्य
              o -चर्चित कहानी संग्रह में समकालीन बोध-शोध कार्य
              o -सफर: एक सड़क में सामाजिक अन्तर्द्धंद-शोध कार्य
              o -चक्षुपक्ष में मानव मूल्य-शोध कार्य
              o -‘संतोष गोयल के लेखन में नारी’ पीएचडी की उपाधि के लिए शोध
              o -‘संतोष गोयल के लेखन में मानव मनोविज्ञान’ पीएच डी की उपाधि के लिए शोध
• राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठियां जिनमें प्रपत्र वाचन किया
         o -अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी कांफ्रेन्स दिल्ली में सन 1988, 1991, 1992, 1995,1996, 2000, 2003
         o -अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी कांफ्रेन्स माॅरिशस में सन 1995, 1998
         o -अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी कांफ्रेन्स भोपाल में सन 1996
         o -महिला लेखिका सम्मेलन, उदयपुर एवं भोपाल
         o -साहित्यकार सम्मेलन, कलकत्ता एवं मंुबई
         o -हिन्दी अकादमी द्वारा आयोजित संगोष्ठियों में कवि रहीम तथा कबीर पर प्रपत्र वाचन
         o -अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी कांफ्रेन्स एडमिन्टन केनेडा 1999
         o -हमकलम साहित्यिक संस्था औटवा कैनेडा के सेमिनारज़ 2001, 2002, 2003,2005 2009
• अन्तर्राष्ट्रीय कांफे्रन्सज में प्रपत्र वाचन एवं अध्यक्षता
          o -नागरी प्रचारिणी सभा माॅरिशस-1991
          o -लेवेन यूनिवर्सिटीज बेलजियम-1993
          o -बाली: इंडोनेशिया-1996
          o -शेनजेन चीन-1997
          o -फलोरिडा यूनिवर्सिटी: अमेरिका-2000
          o -होबोकोन यूनिवर्सिटी: न्यूयार्क-2009
          o नागरी प्रचारिणी सभा एडमिन्टन कैनेडा 2008
• स्ंापादन
       o काॅलिज की पत्रिका ‘मिरांडा’
       o -ऋचा पत्रिका का संपादन
       o -हमकलम पत्रिका का संपादन
       o -साहित्य संवाद पत्रिका का संपादन
• आजकल विशेष
        - विशिष्ट संपादन सहयोग
         o ‘संचेतना’ साहित्यिक पत्रिका
• अध्यक्ष -‘हमकलम’ साहित्यिक संस्था ंगुडंगांव
o पत्राचार का पता: सी-1/678, प्रथम तल, पालम विहार, गुड़गांव, हरियाणा-122017

 • दूरभाष: 9818031697/0124-4059282 

esjk ifjosl esjh jpuk izfdz;k 


irk ugha D;k gqvk fd Ldwy esa ‘kCnksa ds tks vFkZ lh[ks Fsk ;knfd;s Fks ‘kCn dks’k es ls jgsa Fks /khjs /khjs cnyrs x;s A ‘kCnksa ds Ik;kZ;Z Hkh u cu jgsa Fksa izR;sd Ik;kZ;Z dgkW tkus okyk ‘kCn Hkh vius u;s vFkZ esa tsgu esa xWwtrk jgk Fkk A okD; Hkh lh/ks lk/ks vFkZ u gksdj y{.kkRed o O;atukRed gks x;s Fks A fQj ,d fnu og Hkh vk x;k Fkk tc lh/kk ljy lh :d okD; iwjh izfDr cu x;k Fkk A dqN rks gq;k gks Fkk ‘kk;n ;gh ifjos’k Fkk ifjos’k dk izHkko Fkk tks /kheh xrh ls tkus vutkus /kefu;ksa esa [kwu lk nkSM+uk yxk Fkk A ;gh rks vuqHko gksrk gSa ;gh ifjiDo gksuk Hkh gSa a ,sls vuqHko Hkjsa [kqu ds fnekx esa igWwprs gh lksp fopkj cny tksrs gSa lh/kh ljy _rq js[kk,a rd eu esa dqN lqx cqxk nsrh gSaA ,d rM+Ik lh gksrh gSaA dHkh eu ?kj ls ckgj fudy Hkkxuk pkgrk dHkh cstkj gksdj jksuk vkSj fQj vpkud ;g ifrdz;k,a dgkuh esa O;Dr gksus yxh A dksbZ dgrk ugha dksbZ djrh ugha dksbZ djokrk ugha ij ;g ifjos’k Lor gh gekjsa leku O;fDrRo dks fgLlk cu tkrk A rHkh rks ‘ks/dk;Z ds nkSjku ds nsu ds vusd lQj tks iZk; cksfjax gksr ij dHkh dHkh fnyks fnekx dks >d>ksj nsus okys {k.kksa ls Hkh Hkj tkrs A ogha ls tUe ysrh dgkuh lkeus okyk vkneh lkIrkfgd fgUnqLrku esa izdkf’kr ,d vfodfgr ikS<+ yM+dh dh ekufLdrk dks O;Dr dj ikrh gSa mu fnuks tks Msj ls lQj fd;s Fksa os vusd vutksu ykxksa ls <sj lh tkuh igpkuh leL;k vkSj blh ds gksdj f[kyf[kykus dh NlsVh lh ckrs dHkh iwjh dgkuh esa O;Dr ks tkrh dHkh fdlh dgkuh dk dkbZ fLll cu tkrh jgha gSAA lPkeqp gh ge gSa rks ifjos’k gSa vkSj ifjos’k gSa rks ge gksxas gha Anksuks vU;kU;ksf’r gSaA ifjosl ls iz’u tuers gSa /khjs /khjs Hkwjs jax dh dksf’kdkvksa dk Hkkx cu rs vkSj fQj when i lei on my conch in vacant or in penseve mood esa os iz’u dhM+ks ls oqycqykrs iz’u iz’u dhMk+s ls oqycykrs Ik’u fy[kus dh etowjh curs jgsa gSaA izfrHkk O;qRifr vkSj vH;kl dks dkO; ds gsrq ekuus ds ihNs ;gh dkj.k gSaA izfrHkk ifjos’k o vH;kl ds lkFk lkFk eatrh o pedrh gh gSaA vUkqHkoksa dk nk;jk c<+rk gSa lkeus dh cgqr NksVh &NksVh ckrsa rks igys utjUnkjr gksrh jgha Fkh /khjs /khjs jkS’ku gksus yxrh gSa vkSj fQj ogha NksVh & NksVh udkjnh tkus okyk fLFkfr;ksa lkfgR; dk fgLlk cuus yxrh gSa A fnYyh ds vktkn [;ky ekgkSy dks NksM+ dj chl o”kZ dh voLFkk esa gh fookfgr gksdj mrj izns’k ds ,d NksVs ‘kgj dh :fB xzLr ekuflDrk ds Hkhrj viuk L;ku cukus dks dqy cqykrs eu dh my>us vusd dgkfu;ksa es ;= dk fc[kjh gSaA tkus fdl etcwjh ds rgr thrh L=h iRuh ekW csVh cgu cu dj viuh igpku [ks gh nsrh gSa vfirq dejs es j[ks cDls dh rjg ek= ,d T;knkn jg tkrh gSaA ;g nq%[k lqyxrh unh fyfdax jksM ;wVuZ vkfn dgkfu;ksa esa mHkj dj vk;k gSa A fyfdax jksM dh uTe i<+h &fy[kh Ldkyjf’ki ikus okyh LorU= vkSj Lo/khu dgkW gS A i:”k ekufldrk cnyh dgkW gSa og pkgrk gSa rks vkleku ls Hkh mWpk fcBk nsrh gSa eu djrk gSa ikrky esa Hkh txg ugha NksM+rk gSa A nksgjs O;fDrRo okys bUlku rFkk eq[kkWVs igu dj lekt esa vius dks izLrqr djrs yksxks dh vlfe;r xqyeksgj f[ky x;s dh xEeh ds ek/; ls [kqy &[kqy iM+rh gSa Ae/; oxhZ; ifjokjksa dk ifjos’ izk; ,d lk gh gksrk gS A vius dks chp dk u nh[kkus dh fLFkfr ls cpus dh ekfldrk lHkh Hksxrs gSaA ifj.kkerk fn[kkok eq[kkSVs vUnj dqN ckgj dqN ,d gh fLFkfr dh vyx vyx ifrfdz;k,a us [kqn dks le> vk;s u nwljk le> ik;s A ?kj esa dke ;wW pkgs rjl dk Hkko mRiUu djrh gSa ijUrq mudh lkQ ljy Li”V oknh thou i}rh e/; oxZ dks eq[kkSVks Hkjh ftUnxh dk migkl djrh brjkrh vkSj ‘kUuksa dgkfu;ksa esa nh[k iM+rh gSaA ;s yksx u rks iq:”k ls ncrh gSa u ekj [kkrh gSa A mlds ls >kM+w mBkdj ekjus dh rkdr mUgh esa gSaA euksfoKku u dsoy dkWfyt ds ikB;dze dk fo”; jgk vfirq ?kj Hkj esa foKku bafUtZfjxa vk;qfoZKku lHkh dk fo”;ksa dk izHkko jgk ifj.kke ekufld rFkk ‘kkjhfjd chekfj;ksa O;fDRk ds O;ogkj rFkk ekufldrk ds chp tksM+ rksM+ rFkk rkyesa fcBkus dh vknr Lor gh iM+ x;h cpiu dh tjk tjk ckrsa ftUdk vglkl Hkh lxs lEcfU/k;ksa ekrk firk dks ugha gksrk dc cM+h cM+h xkWoksa esa cny tkrh vkSj ftUnxh dh ckxMksj lHkky ysrh ;gh lR; jLlh eksgjk vkfn dgkfu;ksa es >kWd mBrk gSa A lapsruk esa izdkf’kr jLlh dgkuh dk pquko 1996 bZ dh loZ Jzs”V dgkfu;ksa esa gqvk A ‘kkS/kdzk; lekr djrs djkrs fnYyh fo’ofo?kky; esa f’k{k.k ikzjHHk fd;k rks lkrus Fkk ,d u;k nk;jk dke dkth yksxksa ds eu esa iyrh egRokdk{kk vkSj bZ”;kZ,a A ‘krjat ds ckth yxkus eksgjs fcNkus ekjus ‘kkg vkSj ekr ds fy, bLrseky pkysa ,d u;k lalkj [kyk Fkk A ,d u;k va/ksjk dksuk jks’ku gavk Fkk my>rs ;s /kxksa lh vf/kdkf/kd my>rh bu jktuhfr;ksa dh dFkk fuxafVo dk fgLlk cu x;h A ;s dgkuh gal esa yEch dgkuh ds :Ik esa izdkf’kr gqbZ A dkWfyt ds tekus ds xf.kr fo”k; ds VkWij Hkh ftUnxh dh tek ?kVk xq.k Hkkx tSls ljy tksM+ rksM+ esa vlQy jg tkrs gSaA QksVksxkzQh ds fu;e cny tkrs pkjks vksj QSys ifjosl dk ;g lp dc vuqHo dh bZdkbZ cuk fQj dgkfu;ksa dk fgLlk cuk crkuk dfBu gh ugha vlEHko gSaa A ftl okrkoj.k esa ge jgrsa gSa og lekt ds xkzQ ds e/; Hkkx esa vkrk gsaA flj mBkdj mij rFkk vkW[k >qdk dj uhps dqN u dqN rks fuxkg o fnekx ds nk;jsa esa vk gh tkrk gSaA chp ds O;fDr dh fnjkjr ;gk gksrh gSa fd uhps rks tk;sxk ugha og mij dh vksj gh tkuk pkgsxk A fQj vkS/kksfxdj.k ds izHkko ls vFkZ dh c<+rh egrk ls mRiu vusd iz’u fujUrj cM+s gksrs tkrs vkW[kksa dks Hkh ykWx dj viuh O;;kodrk ds lkFk vk [kM+s gksrs gSaA ifj.kkerk /kjk’kk;h tks ,d dksyWst miU;kl gSa ftlesa lekt ds vehj oxZ funs’kksa ds fy, vkdf”kZr ;qok oxZ fons’kksa esa cls yM+dks esa viuh iq=h ds lq[k [kjhnrs ekrk firk rFkk Lo;a yM+fd;ksa ds nq%[k Qsfefute dh f’kdkj erkvksa ds cPpksa dh nqfo/kk,W tkus fdrus fp= b/kj m/kj fNrjk vk;sag Sa dqM+k?kj dh jkeI;kjh dk nq%[k fjtsosZ’ku dh lkjh ikfyfl;ksa dks pqukSrh nsrk gSa aA v[kckjksa esa izfrfnu cw<+s o vdsys cls ekrk firk vkSj muds fons’kksa esa cls cPpksa tkf vxk/k /ku Hkst dj viuh drZO; ls eqDr ik ysrs gSa eu dh nhokj iz’kuksa dh yrkj nj yrkjsa pM+k Mkyrsa gSaA jgs gSa lkfgR; ve`r esa izdkf’kr ltk dgkuh blh nq%[k dks vfHkO;Dr nsrh gSa a lkfjdk esa izdkf’kr vius fgLlsa dh /kwi ikjhokfjd euksfoKku ftls gj ?kj dk cPpk cPpk eglwlrk gSa dk fp=.k djrh ,d dgkuh gSaA mlesa ekrk firk fduk Hkh dgsa vius cPpksa ds fy, fHkUu O;ogkj dj muds O;fDrRo dh cukoV rFkk cqukoV ds ftEesnkj gks gh tkrsa gSaA mlh izdkj lkr fpfM+;kW cgusa dgkuh izkd`frd fu;eksa esa cgqpfpZr dgkuh >qyk gal esa izdkf’kr dsa ml euksfoKku dk ftzd Hkh dgkuk pkgqxh tks ,d vksj rks I;kj tks lpeqp I;kj gSa fn[kkok ;k foo’krk ugha dh egrk fl) djrh gS rks nwljh vksj L=h dh oS;fDrdrk esa gj ns’k esa gj ifjos’k esa gksrh gh gSA ifjos’k ys[kd dh Hkk”kk Hkko fopkj vkSj fQj dgkuh dfork vkSj miU;kl curk gSa rHkh rks xagkus jksgrd lknkSjk esa ols }kjk ukuk ifjokjksa esa rFkk mu ikzUrksa esa ckyh tkuh okyh rFkk dpgjh esa dk;Zr ukuk }kjk ckyh tkrh fefJr fgUnh fnYyh ds i<+s fy[ks oxZ dh vaxzsth fefJr fgUnh vkSj vklikl dke djus okyksa dh czt vo/kh fcgkjh dk dqN dqN izHkko vutkus esa gh dFkk jpuk dk fgLlk cu x;s gSaA

© Copyright 2019 SantoshGoyal.in - All Rights Reserved